[Hindi] किशोरी बालिका योजना 2020 यूपी|लाभ|आवेदन

किशोरी बालिका योजना 2020 यूपी | किशोरी बालिका योजना लाभ एवं आवेदन की जानकारी | Kishori Balika Yojana UP In Hindi

यूपी किशोरी बालिका योजना, योगी सरकार द्वारा शुरू की गई कन्याओं के लिए एक अलग योजना है. इस योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य राज्य की बालिकाओं के स्वास्थ्य एवं उनके पालन-पोषण मैंसुधार लाना है. राज्य सरकार का यह मानना है कि इस योजना से बालिकाओं के स्वास्थ्य में सुधार आएगा। इस योजना को मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ द्वारा शुरू किया गया है. हर बच्चे को स्वास्थ्य रखने की जिम्मेदारी उनके माता-पिता की की होती है.

लेकिन अब सरकार भी इस श्रेणी में अपने कदम आगे बढ़ा रही है. बच्चों के अच्छी शिक्षा एवं अच्छा स्वास्थ्य ही हमारे आने वाले भविष्य को उज्जवल एवं सुदृढ़ बना सकता है. हर व्यक्ति को शिक्षा का अधिकार है, लेकिन आज भी हमारे समाज में कुछ तबके हैं जो कि लड़कियों की शिक्षा एवं उनके स्वास्थ्य को लेकर सजग नहीं है. ऐसे ही लोगों के लिए, किशोरी बालिका योजना उत्तर प्रदेश का शुभारंभ किया गया है. आज हम इस पोस्ट में आपको इस योजना की पूरी जानकारी, योजना का मुख्य लाभ, नियम एवं पात्रता के साथ साथ क्या-क्या जरूर दस्तावेज आपको चाहिए हम आपको इस पोस्ट में बताएंगे।

किशोरी बालिका योजना | Kishori Balika Yojana

यूपी सरकार की किशोरी बालिका योजना के अंतर्गत लगभग राज्य की 500000 बालिकाओं को इसका लाभ मिलेगा। समय से पहले अपना स्कूल छोड़ने वाली कन्याओं को मुख्य रूप से इस योजना के अंतर्गत लाया जाएगा। इस योजना में सरकार ऐसी कन्याओं की पूरी मदद करेगी क्योंकि अपनी पढ़ाई पूरी नहीं कर पाई है. इसमें किशोरियों के खानपान के लिए सरकार द्वारा हर महीने के 25 दिन खाद्य सामग्री जिसमें की मुख्य रूप से दाल, मक्का, जी, ज्वार बाजरा जैसी पौष्टिक चीजें दी जाएंगी। जिससे कि उन्हें किशोरावस्था में प्रोटीन एवं कैलरी की जो आवश्यकता होगी वह पूरी की जाएगी। बाल विकास पुष्टाहार विभाग द्वारा चलाए गए कार्यक्रम में इस योजना की जानकारी कई अधिकारियों ने दी. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि हर महीने की 8 तारीख को किशोरी दिवस मनाया जाएगा।

किशोरी बालिका योजना

तो दोस्तों इस तरह राज्य की लगभग 11 वर्ष से लेकर 14 वर्ष की आयु की बालिकाओं को, इस योजना के अंतर्गत जोड़ा जाएगा। इस योजना से कन्याओं की शिक्षा एवं उनके स्वास्थ्य एवं आहार के लिए सरकार द्वारा लाभ दिया जाएगा। इसके साथ साथ ही वह कन्याएं जोकि अपनी पढ़ाई को पूरा नहीं कर पाई है उन्हें शिक्षा के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। इसके साथ ही हर साल 8 मार्च 2019 को किशोरी दिवस मनाया जाएगा। जिसमें की कन्याओं को पौष्टिक आहार देने के लिए एक अभियान चलाया जाएगा। इसके साथ ही यह भी बताया जाएगा कि किशोरावस्था में कन्याओं को किन-किन जरूरी पोस्टिक आहार की आवश्यकता होती है. जिससे कि उनकी शरीर में कुपोषण से कोई कमी ना आ सके.

योजना में महत्वपूर्ण आहार

बालिकाओं को अच्छा स्वास्थ्य एवं उनके अच्छे दिमाग के लिए सरकार द्वारा पौष्टिक आहार उपलब्ध करवाया जाएगा। जिसमें की मुख्य रूप से बाजरा, अरहर की दाल, ज्वार, शुद्ध देसी घी, आटा, मक्का दूध इत्यादि पौष्टिक चीजें दी जाएंगी। यह सभी पौष्टिक चीजें महीने के 25 दिन तक लाभार्थी कन्या को दी जाएंगी। इन सभी जरूरी खाद्य पदार्थों से कन्याओं के शरीर में होने वाली किसी प्रकार की कमी को पूरा किया जा सकता है. इसलिए सरकार का भी यही उद्देश्य है कि किशोरावस्था में कन्याओं को जब सबसे अधिक पौष्टिक एवं विटामिन से भरपूर खाद्य पदार्थों की आवश्यकता होती है तब उन्हें में आसानी से मिल सके. खाद्य पदार्थों के साथ-साथ मल्टीविट आप से भरपूर गोलियां भी समय-समय पर दी जाएंगी।

कन्या सुमंगला योजना

कन्याओं को आंगनबाड़ी से एक हेल्थ कार्ड बनवाना भी आवश्यक है जो कि निशुल्क बनेगा। ऐसी किशोरी बालिकाएं जिनकी आयु 11 वर्ष से लेकर 14 वर्ष के बीच में है उनके यह कार्ड बनाना होगा। सरकार द्वारा तैयार किए एक आंकड़े के अनुसार लगभग इस वर्ष को जोड़कर 500000 कन्याएं इस योजना के अंतर्गत लाभान्वित होंगी। सरकार का यह उद्देश्य है कि हर कन्या जो कि इसकी पात्र है उसे इस योजना का लाभ मिले। इसके साथ ही योगी सरकार द्वारा कुछ कड़े नियम भी बनाए गए हैं ताकि कोई भी अन्य किशोरियों को मिलने वाले इस लाभ का गलत फायदा ना उठा सके.

किशोरी बालिका योजना हेतु पात्रता

  1. आवेदन या लाभ लेने हेतु कन्या की आयु 11 वर्ष से 14 वर्ष के बीच में होनी चाहिए। यह एक सीमा सरकार द्वारा तय की गई है जिसके अंतर्गत ही यूपी किशोरी बालिका योजना का लाभ दिया जाएगा। इससे कम या इससे अधिक उम्र की कन्या योजना के लिए आवेदन करती है तो उनका आवेदन स्वीकार नहीं किया जाएगा।
  2. क्योंकि यह योजना उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा शुरू की गई है इसलिए केवल यूपी की बालिकाओं के लिए ही यह योजना है. अन्य राज्य की बालिकाएं इस योजना का लाभ नहीं उठा सकती। केवल उत्तर प्रदेश की स्थाई निवासी कन्या ही इसके लिए आवेदन करें।
  3. इस योजना में तीसरे मुख्य पात्रता यह है कि जो भी कन्या योजना के लिए आवेदन करती है वह इस समय किसी भी स्कूल से शिक्षा प्राप्त करती होनी चाहिए। केवल उन्हीं कन्याओं को इस योजना का लाभ मिलेगा जो कि इस समय शिक्षा ग्रहण कर रही हैं. इसके साथ ही यह भी जरूरी है कि अपने राज्य के स्कूल से शिक्षा प्राप्त कर रही हो.

जरूरी दस्तावेजों की जानकारी

  1. आवेदन करने के बाद बालिका का एक हेल्थ कार्ड भी बनाया जाएगा। जिसमें कि यह पूरी जानकारी दी जाएगी कि कैसे, कोई कन्या इस योजना का लाभ ले सकती है तथा तथा उसे क्या-क्या जरूरी दस्तावेज इस योजना के लिए चाहिए।
  2. आवेदन करने के समय आपके पास आपका आयु प्रमाण पत्र होना आवश्यक है. आयु प्रमाण पत्र इसलिए आवश्यक है क्योंकि सरकार द्वारा केवल 11 वर्ष से 14 वर्ष के बीच की कन्याओं को ही इस योजना का लाभ दिया जाएगा। इसलिए आपके पास आपका आयु प्रमाण पत्र जिसमें की आधार कार्ड या अन्य को दस्तावेज जिससे कि आपकी आयु प्रमाणित हो वह लेकर आना होगा।
  3. अगर आपके पास आधार कार्ड है तो यही आपके पहचान पत्र का काम करेगा। इसके अलावा राशन कार्ड से भी आप अपनी पहचान बता सकते हैं.
  4. इसके अलावा आपके पास आपका जन्म प्रमाण पत्र होना भी जरूरी है. क्योंकि सरकार द्वारा केवल किशोरी कन्याओं को इस योजना के अंतर्गत किया जाएगा. इसलिए जो भी जरूरी दस्तावेज आंगनबाड़ी केंद्रों में मांगे जाएंगे वह आपको जमा करवाना आवश्यक है.

यूपी किशोरी बालिका योजना 2020

मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ में 21 फरवरी 2019 को लखनऊ से ही किशोरी बालिका योजना को शुरू किया था. उन्होंने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से इस योजना का शुभारंभ किया तथा सभी क्षेत्रों में इस को लाइव दिखाया गया था. जिसमें कि सभी विकासखंड के ग्राम पंचायत से आंगनबाड़ी कार्यकर्ता वह आंगनबाड़ी सहायिका वहां पर मौजूद रही थी. इस योजना को शुरू करने के बाद से ही कन्या इस योजना के लिए आवेदन कर सकती हैं. आवेदन करने के लिए उन्हें अपने नजदीकी आंगनवाड़ी केंद्र में जाकर संपर्क करना है. आंगनवाड़ी केंद्रों में जरूरी दस्तावेज एवं महत्वपूर्ण जानकारी वहां पर जमा करवानी आवश्यक होगी जिसके बाद यूपी किशोरी बालिका योजना का आवेदन स्वीकृत किया जाएगा। सारी प्रक्रिया पूरी होने के बाद से ही आपको इस योजना के अंतर्गत लाभ दिया जाएगा।

उत्तर प्रदेश की मुख्य योजनाएं

FAQ (योजना से जुड़े हुए प्रश्न उत्तर)

किशोरी बालिका योजना किस राज्य के लिए शुरू की गई है?

किशोरी बालिका योजना उत्तर प्रदेश राज्य की 11 वर्ष से 14 वर्ष की बालिकाओं के लिए शुरू की गई है.

किशोरी बालिका योजना का मुख्य लाभ क्या है?

इस योजना के अंतर्गत राज्य की 11 वर्ष से 14 वर्ष की किशोरियों को हर महीने के 25 दिन पोषक आहार दिए जाएंगे।

इस योजना के अंतर्गत क्या मुख्य पोषक आहार वितरित किया जाएगा?

कन्याओं इस योजना के अंतर्गत आपको राज्य सरकार द्वारा पोषक तत्व जिनमें की ज्वार, बाजरा, देसी घी, नमकीन के पैकेट, मक्का, दाल, इत्यादि का वितरण किया जाएगा।

किशोरी बालिका योजना को कब एवं किसने शुरू किया?

इस योजना को मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ द्वारा 21 फरवरी 2019 को लाइव एलसीडी के माध्यम से शुरू किया गया. जिससे कि सभी राज्यों के आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा ऑनलाइन देखा गया है.

योजना हेतु कोई हेल्पलाइन नंबर उपलब्ध है?

अभी तक इस योजना का कोई भी हेल्पलाइन नंबर उपलब्ध नहीं है. इसके अलावा अगर आप इस योजना से जुड़ी को शिकायत करना चाहते हैं तो आप मुख्यमंत्री हेल्पलाइन 1076 पर कॉल करके कर सकते हैं.

UP Abkari Vibhag Tender

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *